समाचार क्रिकेट

MS Dhoni is better than Virat Kohli in pressure situations

Staff Writer Updated: 13 March, 2019, 4:29 PM IST

HIGHLIGHTS

Indian skipper is a terrific leader, but India need the services of someone like MS Dhoni to handle pressure situations, according to Shane Warne.

Dhoni's absence was felt during the fourth ODI in Mohali, where India failed to defend a total of 358 runs.

Talking to ANI, Warne said it is easy to lead a side when things are going your way, but one needs the presence of experienced players like Dhoni in crunch moments.

"Virat Kohli is a terrific leader but many a time we can have experience of MS Dhoni to help Virat when pressure is on. It's easy to captain a side when things are going well but when it's tough you need experience like you saw in MS Dhoni," the former Australian cricketer said.

He slammed the critics of the former Indian skipper."MS Dhoni is a great player. He can bat anywhere whatever the team needs. He is adaptable and anyone criticising him has no idea what they are talking about. India need him in the World Cup. They need his experience and leadership skills on the field to help Virat Kohli as well," he said.

Get Daily Updates From CricToday

Subscribe and get the latest Sports News delivered to your inbox.

Email is required. Invalid email address.
राय क्रिकेट

आईपीएल टीम के कप्तान- किस का हुनर बाजी मारेगा?

CT Contributors Updated: 13 March, 2019, 5:21 PM IST

HIGHLIGHT

आईपीएल 2019 शुरू होने से पहले ही चर्चा में आ गए हैं हर टीम के कप्तान क्योंकि विजेता के तौर पर आईपीएल ट्रॉफी और इनाम का चैक हाथ में लेना किसी भी कप्तान का सपना हो सकता है? कप्तानों में से इस बार कौन बाजी मारेगा - क्या धोनी जैसा दिग्गज कप्तान या श्रेयस अय्यर जैसा नया कप्तान? कप्तान का हुनर कितना जिम्मेदार है टीम के लिए? अगर अकेले धोनी की कप्तानी से आईपीएल टाइटल में जीत मिलती तो जिन दो साल वे राइजिंग पुणे सुपर जायंट्स के कप्तान थे वे भी आईपीएल टाइटल जरूर जीत लेते। गौतम गंभीर को जो कामयाबी कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ मिली - दिल्ली की टीम के लिए उसका एक हिस्सा भी नहीं।

माइक ब्रेयरली को कप्तान की तकनीकी का गुरू गिनते हैं और उनका कहना है कि जितनी टीम अच्छी होती है - उतना ही कप्तान अच्छा होता है। अपनी नई किताब में ब्रेयरली ने लिखा है कि अगर वे या स्टीव वॉ अपने बेहतरीन दौर में बांग्लादेश/जिंबाब्वे के कप्तान बन जाते तो इसका मतलब ये नहीं कि बांग्लादेश/जिंबाब्वे को विश्व चैंपियन बना देते। विराट कोहली भारत के कप्तान के तौर पर चाहे जो रिकॉर्ड बनाते रहें – रॉयल चैलेंजर्स ने उनकी कप्तानी में एक भी टाइटल नहीं जीता।

आईपीएल में सबसे अनुभवी कप्तान हैं धोनी और चेन्नई के लिए तीन टाइटल जीते - 175 मैच खेले और इनमें से 159 में कप्तान। 94 मैच में जीत यानि कि 59.12 प्रतिशत मैच जीते। अब तक आईपीएल में 3691 दिन कप्तान - ये गिनती भी रिकॉर्ड है। धोनी चूंकि विश्व कप की स्कीम में हैं इसलिए टीम मैनेजमेंट उन्हें आराम दे सकती है और संभव है कि आखिरी कुछ मैच वे न खेलें और तब सुरेश रैना कप्तानी करेंगे। धोनी 100 मैच जीतने का रिकॉर्ड बना सकते हैं।

यही बात विराट कोहली पर भी लागू होगी और उनके कुछ मैच के आराम का मतलब होगा कप्तानी एबी डीविलियर्स के पास। विराट कोहली 100 मैच में कप्तानी का रिकॉर्ड बनाएंगे इस बार - अब तक 96 मैच में से 45 यानि कि 46.88 प्रतिशत मैच ही जीते। बैंगलूरू मैनेजेमेंट में तो यहां तक चर्चा थी कि इस बार कोहली को कप्तानी से ही हटा दें पर ग्लेमर और टिकट खिड़की का ध्यान रखकर ऐसा नहीं किया।

रोहित शर्मा के साथ मुंबई इंडियंस ने दो टाइटल जीत लिए है। कोहली की गैर मौजूदगी में भारत की कप्तानी भी वे ही करते हैं। रोहित की एक खूबी ये है कि वे मिसाल बनकर कप्तानी करते हैं। रोहित की जगह, अगर आराम देने की नौबत आई तो मुंबई इंडियंस वाले किसे मौका दे सकते हैं, अभी तय नहीं - अब तक 89 मैच में 52 जीत - 58.43 प्रतिशत यानि कि सबसे कामयाब कप्तान में से एक।

दिनेश कार्तिक को 7.40 करोड़ रूपये में खरीदकर कोलकाता नाइट राइडर्स ने सीधे कप्तान बना दिया। ये उनकी पांचवी टीम है। उनका विश्व कप में खेलना तय नहीं और कोलकाता को उम्मीद रहेगी कि गंभीर जैसा जादू दिखाएंगे। अब तक 22 मैच में से 11 में जीत।

राजस्थान रॉयल्स ने भी रहाणे को कप्तानी से हटाने के बारे में सोचा और ये हो भी जायेगा अगर शुरू के मैचों में टीम का खेल टॉप न रहा। टीम के पास बहुत अच्छा विकल्प है - स्टीव स्मिथ वापस आ गए हैं और वापसी में स्मिथ को कुछ साबित करना होगा। प्रदर्शन रहाणे की भी मदद करेगा विश्व कप टीम में जगह की दावेदारी में। अब तक 16 मैच में सिर्फ 7 जीत - 43.75 प्रतिशत।

जैसे स्मिथ की बदौलत रहाणे को कप्तानी मिली, वैसे ही वॉर्नर की बदौलत विलियमसन को कप्तानी मिली। इस समय वे फिट नहीं पर जल्दी फिट हो जाएंगे। अगर विश्व कप की वजह से उन्होंने भी कुछ मैच न खेले तो सनराइजर्स हैदराबाद का कप्तान बदलेगा। अब तक 17 मैच में 10 जीत - 58.82 प्रतिशत। इस समय आईपीएल के एकमात्र विदेशी कप्तान।

दिल्ली और पंजाब टीम की गलती ये रही कि दूसरा कप्तान सोचा ही नहीं - इसीलिए दिल्ली तो गंभीर के फेल होने पर सीधे श्रेयस अय्यर पर पहुंच गए जबकि पंजाब को अश्विन की जगह कोई और दिख नहीं रहा। इन दोनों को इस कमजोरी का नुकसान होगा। क्या दिल्ली वाले शिखर धवन के बारे में सोचेंगे? अश्विन ने 14 में से 6 मैच जीते।

तो ट्रॉफी किस कप्तान के हाथ में होगी?

समाचार क्रिकेट

जल्द ही टेस्ट क्रिकेट में आएगा मजा, नो बॉल पर मिलेगी फ्री हिट 

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 5:11 PM IST

HIGHLIGHT

एमसीसी विश्व क्रिकेट समिति ने लंबे फॉर्मेट को दिलचस्प बनाने के लिए कुछ प्रस्ताव दिये हैं जिसमें समय बर्बाद होने से रोकने के लिये ‘शॉट क्लॉक’ लगाया जाना, शुरूआती विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के लिए मानक गेंद का इस्तेमाल और नो-बॉल के लिए फ्री हिट जैसी सिफारिशें शामिल हैं।

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक गैटिंग की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले हफ्ते बंगलूरु में हुई बैठक में टेस्ट क्रिकेट में कुछ बदलाव किए जाने के सुझाव दिए हैं। इस समिति में पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली भी शामिल हैं। इन प्रस्तावों को मेरिलबोन क्रिकेट क्लब ने अपनी वेबसाइट पर लगाया है।

पांच दिवसीय फॉर्मेट में धीमी ओवर गति नियमित प्रक्रिया है जिससे प्रशंसक खेल से थोड़ा दूर हो रहे हैं इसलिए एमसीसी समिति ने ‘शॉट क्लॉक’ आरंभ करने की जरूरत व्यक्त की।

एमसीसी ने कहा, ‘‘जब इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका के प्रशंसकों से टेस्ट क्रिकेट में दर्शकों की कम हिस्सेदारी के मुख्य कारकों को पूछा गया तो 25 प्रतिशत प्रशंसकों ने धीमी ओवर गति का जिक्र किया। इन देशों में स्पिनर बहुत कम ओवर फेंकते हैं, एक दिन में पूरे 90 ओवर कभी कभार नहीं फेंके जाते, यहां तक कि अतिरिक्त 30 मिनट भी ले लिए जाते हैं। वहीं डीआरएस भी देरी के लिए थोड़ा जिम्मेदार है, समिति को लगता है कि खेल की रफ्तार को बढ़ाने के लिए कुछ कदम उठाए जाने चाहिए।’’

फ़ीचर क्रिकेट

एक्सक्लूसिव: युसूफ पठान ने खोले राशिद खान और मोहम्मद नबी के साथ दोस्ती से जुड़े राज

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 4:26 PM IST

HIGHLIGHT

भारत में हर शहर की अपनी एक खास पहचान है, हैदराबाद भी उन्हीं शहरों में से एक है, जो अपनी कई चीजों के लिए सिर्फ भारत की नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। चारमीनार, हुसैन सागर झील, बिड़ला मंदिर, सालारजंग संग्रहालय जैसी मशहूर चीजें निजामों के इस शहर का मुख्य आकर्षक केंद्र हैं। इन सबसे बीच यहां का लजीज खाना भी बेहद ही खास है, खासकर हैदराबादी बिरयानी, जिसका ज़ायका लिए बगैर पर्यटक शायद ही यहां से जाने के बारे में सोचते हैं। सिर्फ पर्यटक ही नहीं बल्कि कई नामचीन हस्तियों की भी हैदराबादी बिरयानी पहली पसंद है। 2011 विश्व कप जीतने वाली टीम के सदस्य रहे बल्लेबाज युसूफ पठान भी हैदराबादी बिरयानी के काफी शौकीन हैं।

क्रिकेट टुडे के रिपोर्टर हर्षित आनंद के साथ हुई खास बातचीत में खुद युसूफ पठान ने इस बात का खुलासा किया है। आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद की टीम के सदस्य युसूफ पठान से जब हमारे रिपोर्टर ने हैदाबाद के ज़ायके के बारे में सवाल किया तो युसूफ ने कहा,,मुझे नए-नए भोजन का स्वाद लेना बेहद ही पसंद है, लेकिन हैदराबाद की बिरयानी और कबाब का टेस्ट बेहद ही बेहतरीन है और यह मुझे काफी पसंद है।''

कभी कोलकाता नाइटराडर्स की टीम के सदस्य रहे युसूफ पठान अपनी वर्तमान टीम सनराइजर्स हैदराबाद को सिर्फ खाने के जायके के लिए ही नहीं पसंद करते हैं। क्रिकेट टुडे के रिपोर्टर हर्षित आनंद के साथ एक एक्सक्लूसिव साक्षात्कार में बड़ौदा के इस आक्रामक बल्लेबाज ने उन बेहतरीन पलों को भी साझा किया जो उन्होंने टीम के साथ बिताए। आक्रामक बल्लेबाज ने कहा,'' मैंने अपनी टीम के साथ बेहतरीन वक्त बिताया है। मैंने वीवीएस लक्ष्मण, मुथैया मुरलीधरन, और टॉम मूडी जैसे दिग्गजों से काफी कुछ सीखा है। इन सभी का अपने देश के लिए क्रिकेट के प्रति योगदान बेहद सराहनीय रहा है। मैंने इस नई टीम में कई नए दोस्त बनाए हैं।''

आईपीएल ने भारतीय क्रिकेट को विश्व में एक नई पहचान दिलाई है। शायद यही वजह है कि इसकी अपार सफलता ने बाकी के देशों को भी इसी की तर्ज पर टी-20 टूर्नामेंट आयोजित करने पर मजबूर कर दिया, लेकिन आईपीएल जैसा टूर्नामेंट खेलना किसी चुनौती से कम नहीं हैैै। लगभग 6 हफ्ते चलने वाला यह टूर्नामेंट आईसीसी के किसी बड़े इवेंट से कम नहीं है, जहां खिलाड़ियों को मैच दर मैच खुद को फिट रखना पड़ता है। आधी रात को मुकाबला खत्म होने के बाद अगले मुकाबले के लिए फ्लाइट पकड़ना और फिर प्रैक्टिस करके मैदान पर आने से खिलाड़ियों में शारीरिक और मानसिक थकान होना लाजमी है। खिलाड़ियों को ऐसी स्थित से बाहर निकलने में दोस्ती बड़ा अहम रोल अदा करती है। यहां विभिन्न देशों के खिलाड़ियों के बीच बेहद ही दोस्ताना माहौल रहता है।

पिछले सीजन में युसूफ पठान की अफगानिस्तान के खिलाड़ी राशिद खान और मोहम्मद नबी से दोस्ती की खबरें काफी चर्चा में रही थीं। युसूफ ने दोनों ही अफगानी खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की उन्होंने कहा,'' राशिद खान और मोहम्मद नबी दोनों दुनियाभर में अलग-अलग लीग खेलते हैं। इसलिए यह उनके लिए बहुत अच्छी बात है। उनके पास दुनिया भर में खेलने का अनुभव है। राशिद और नबी दोनों दिलचस्प और प्रेरक कहानियां साझा करते हैं। मैंने टीम के सभी साथियों के साथ बेहतर वक्त बिताया, लेकिन राशिद और नबी के साथ बिताया गया वक्त वाकई में शानदार रहा। दोनों अच्छे क्रिकेटर हैं और अपने देश के लिए बहुत अच्छा कर रहे हैं।''

समाचार क्रिकेट

विश्व कप से पहले इंग्लैंड के स्टार क्रिकेटर की विपक्षियों को चेतावनी, कहा- “बहुत मजबूत है हमारी गेंदबाजी”

Shadab Ali Updated: 13 March, 2019, 4:23 PM IST

HIGHLIGHT

आईसीसी वनडे विश्व के आयोजन में आज से लगभग 80 दिनों का समय शेष है. इस साल टूर्नामेंट का आयोजन 30 मई से इंग्लैंड में होने जा रहा है, जिसमें 10 टीमें हिस्सा लेने जा रही हैं. इससे पहले इंग्लैंड टीम के तेज़ गेंदबाज क्रिस वोक्स ने विश्व की अन्य टीमों को कड़ी चेतावनी दी है. अंग्रेजी क्रिकेटर ने कहा कि उनकी टीम बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी में भी काफी मजबूत है.

वोक्स ने एक साक्षात्कार में कहा, “मैं समझता हूं कि हमारी बल्‍लेबाजी बेहद अच्‍छी है. हमारा बल्‍लेबाजी लाइनअप इस वक्‍त दुनिया में सबसे बेहतर है. मेरा मानना कि पिछले कुछ सालों में हमने गेंदबाजी में भी काफी अच्‍छा प्रदर्शन किया है.”

उन्होंने कहा, “हमारे कुछ खिलाड़ी मौजूदा समय में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. वे केवल वनडे में ही नहीं, बल्कि जिस भी प्रारूप में हमारे गेंदबाजों को मौके मिल रहे हैं वे उसमें अच्‍छा प्रदर्शन कर रहे हैं.”

गौरतलब है कि इंग्लैंड की टीम मौजूदा आईसीसी वनडे विश्व रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज़ है और विश्व कप 2019 का आयोजन भी इंग्लैंड में ही होने जा रहा है. ऐसे में इंग्लैंड को अपने घर की परिस्थितियों में खेलना का फायदा ज़रूर मिलेगा.

समाचार क्रिकेट

भारतीय गेंदबाज ने धोनी को बताया क्रिकेट का मसीहा, कहा आज माही भाई की बदौलत ही यहां हूं

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 3:50 PM IST

HIGHLIGHT

  • मोहित शर्मा ने की धोनी की तारीफ
  • दबाव में अच्छा प्रदर्शन करने की कला मैने धोनी से सीखी
  • चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से आईपीएल 2019 में खेलेंगे मोहित शर्मा

2015 विश्व कप में भारतीय टीम का हिस्सा रहे और पूरे टूर्नामेंट में शानदार गेंदबाजी करने वाले तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने अपनी सफलता का श्रेय महेंद्र सिंह धोनी को दिया है। 2014 आईपीएल में दमदार गेंदबाजी करते हुुए पर्पल कैप जीतने वाले मोहित शर्मा 12वें सीजन में एक बार फिर चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में वापसी करेंगे।

मोहित चेन्नई की टीम का एक बार फिर हिस्सा बनने से काफी उत्साहित हैं साथ ही उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ में जमकर कसीदे पढ़े हैं। सुपर किंग्स की आधिकारिक वेबसाइट को दिए बयान में उन्होंने बताया कि धोनी से ही उन्होंने वो दबाव झेलकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना सीखा है।

उन्होंने कहा,''मैं अपने करियर की शुरुआत में माही भाई की कप्तानी में चेन्नई टीम में आया था। एक तरह से मैंने अपनी गेंदबाजी के बारे में काफी कुछ उन्हीं से सीखा है। माही भाई मेरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सामने लाते हैं, उन्होंने मुझे अपनी गेंदबाजी के बारे में सोचना, स्थिति को पढ़ना और उसके हिसाब से गेंदबाजी करना सिखाया।”

गौरतलब है कि मोहित शर्मा ने साल 2015 विश्व कप में मिले मौके का भरपूर फायदा उठाया था। उनके शानदार प्रदर्शन के चलते ही भुवनेश्वर कुमार को पूरे टूर्नामेंट में बाहर बैठना पड़ा था।

क्रिकटुडे हिंदी का इन्स्टाग्राम पेज फ़ॉलो करें

www.instagram.com/crictodayhindi

समाचार क्रिकेट

पुजारा ने कहा- “मत उठाओ मेरी काबिलियत पर उंगली, टी-20 के लिए भी हूं फिट”

Shadab Ali Updated: 13 March, 2019, 2:56 PM IST

HIGHLIGHT

भारतीय टीम की नई ‘दीवार’ और दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने टी-20 क्रिकेट में खेलने की दिलचस्पी दिखाई है. नवभारत टाइम्स में छपी एक खबर के मुताबिक पुजारा ने कहा है कि वह टी-20 क्रिकेट के लिए भी फिट हैं. इसके अलावा पुजारा ने कहा कि अगर उन्हें वनडे क्रिकेट में भी मौका मिला तो वह किसी भी क्रम पर बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हैं.

बकौल पुजारा, “टी-20 क्रिकेट में मैंने रन बनाकर दिखाए, तो लोगों को लगा कि मैं कर सकता हूं. पिछले दो सालों से मैं काफी रन बना रहा हूं. मैं सौराष्ट्र के लिए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में खेल रहा था. मैंने वहां भी रन बटोरे. चीजें बदल रही हैं. मैं छोटे प्रारूप में भी रन बना रहा हूं.”

बता दें कि पुजारा ने इस साल सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफी में सौराष्ट्र की तरफ से खेलते हुए महज़ 61 गेंदों में शतक जमाया था, जिसमें 14 चौके और एक छक्का शामिल था. इस तरह पुजारा ने टी-20 क्रिकेट में तूफानी शतक जड़ आलोचकों को करारा जवाब दिया था. हालांकि पुजारा को अक्सर धीमे खेल के लिए जाना जाता है. इसी वजह से उन्हें वनडे और टी-20 में शामिल नहीं किया जाता है.

31 वर्षीय दाएं हाथ के बल्लेबाज ने वनडे क्रिकेट को लेकर भी बयान दिया. उन्होंने कहा, “अगर विश्व कप के बाद कभी वनडे टीम में खेलने का मौका मिला तो मैं जरूर इसका हिस्सा बनना चाहूंगा. टीम जहां भी चाहेगी मैं बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हूं.”

पुजारा ने टेस्ट क्रिकेट के बारे में कहा, “जहां भी टेस्ट क्रिकेट खेलूंगा, वहां मैं ऑस्ट्रेलिया जैसा परफॉर्म करना चाहूंगा”.

आपको बता दें कि चेतेश्वर पुजारा ने हाल ही में टीएनसीए फर्स्ट डिविजन लीग में डेब्यू किया है.

समाचार क्रिकेट

शिखर धवन की फोटो देखकर भज्जी ने मारा दूसरा, बदले में गब्बर ने दिया मजेदार जवाब

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 2:23 PM IST

HIGHLIGHT

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे वनडे मुकाबले में टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने शानदार शतकीय पारी खेलते हुए अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया था। हालांकि उनकी इस बेहतरीन पारी के बावजूद भारतीय टीम जीत हासिल नहीं कर सकी। जो भी हो लेकिन टीम इंडिया में गब्बर नाम से मशहूर शिखर धवन एक बार फिर सुर्खियों में हैं।

दरअसल दिल्ली वनडे से ठीक पहले शिखर धवन ने अपने इंस्टाग्राम पर एक शानदार फोटो को पोस्ट की। फोटो में शिखर धवन के ठीक पीछे टीम इंडिया के कुछ खिलाड़ी भी नजर आ रहे हैं, जो कुछ दूरी पर हैं। धवन ने कैप्शन में लिखा कि क्या आप इन चेहरों को पहचानते हैं। धवन के फोटो शेयर करते ही टीम इंडिया में उनके साथ काफी क्रिकेट खेलने वाले हरभजन सिंह ने जमकर चुटकी ली। हरभजन ने अपने जवाब में लिखा, बिना बालों का सिर चमक रही है तेरी गब्बर। हरभजन को धवन ने भी शानदार अंदाज में जवाब दिया और कहा,'' जाट तो शुरू से ही चमकता रहा है पाजी।''

आप भी देखें कैसे दोनों भारतीय दिग्गजों ने उड़ाई एक दूसरे की खिल्ली।

गौरतलब है कि हरभजन सिंह लंबे समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। आज कल वह टीवी चैनलों पर क्रिकेट एक्सपर्ट की भूमिका तो निभाते ही हैं साथ ही मैच के दौरान कमेंट्री करते हुए भी नजर आते हैं। आईपीएल 2019 में हरभजन सिंह चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम की तरफ से खेलेंगे

हमें ट्विटर पर फ़ॉलो करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

www.twitter.com/CrictodayHindi

समाचार क्रिकेट

एमएस धोनी की टीम के साथी खिलाड़ी ने कहा- “दबाव झेलना माही भाई से ही सीखा है” 

Shadab Ali Updated: 13 March, 2019, 2:19 PM IST

HIGHLIGHT

बीसीसीआई के घरेलू टी-20 टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग 2014 के संस्करण में चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से खेलते हुए पर्पल केप जीतने वाले तेज़ गेंदबाज मोहित शर्मा ने बड़ा बयान दिया है. मोहित इस बार भी महेंद्र सिंह धोनी वाली सीएसके टीम की तरफ से खेलने को बेहद उत्साहित हैं. साथ ही उन्होंने धोनी की भी जमकर तारीफ की है. मोहित ने कहा कि उन्होंने दबाव में खेलना एमएस धोनी से सीखा है.

बकौल मोहित, “मैं अपने करियर की शुरुआत में माही भाई की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम में आया था. एक तरह से मैंने अपनी गेंदबाजी के बारे में काफी कुछ उन्हीं से सीखा है. उन्होंने मुझे अपनी गेंदबाजी के बारे में सोचना, स्थिति को पढ़ना और उसके हिसाब से गेंदबाजी करना सिखाया.”

तेज़ गेंदबाज ने कहा, “मैंने टी-20 प्रारूप में दबाव झेलना माही भाई से ही सीखा है.”

आपको बता दें कि चेन्नई सुपर किंग्स 23 मार्च को चेपॉक स्टेडियम में घरेलू प्रशंसकों के सामने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ टूर्नामेंट का पहला मैच खेलने उतरेगी.

समाचार क्रिकेट

लज़ीज़ व्यंजनों के साथ मोहम्मद शमी के घर पर हुआ टीम इंडिया का स्वागत

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 12:52 PM IST

HIGHLIGHT

दिल्ली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले से ठीक पहले टीम इंडिया तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के गाजियाबाद इंदिरापरम इलाके में स्थित फ्लैट पर पहुुुंची और जमकर मस्ती की। टीम के खिलाड़ियों के साथ हेड कोच रवि शास्त्री और बैटिंग कोट संजय बांगड़ भी नजर आए।

दरअसल शमी ने भारतीय टीम को डिनर के लिए अपने घर पर आमंत्रित किया था, जहां उनके परिवार के सदस्यों ने भारतीय टीम के खिलाड़ियों की जमकर खातिरदारी की।

शमी ने सोशल मीडिया पर एक फोटो भी शेयर की है,जिसमें शमी और उनके परिवार के सदस्यों के साथ ऋषभ पंत और केदार जाधव नजर आ रहे हैं।

दिल्ली वनडे से पहले भारतीय खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस नहीं की इसकी जगह वो ज्यादातर घूमते-फिरते और पार्टी करते ही नजर आए। कप्तान विराट कोहली भी मैच से पहले अपने घर गए जहां उन्होंने अपने डॉग के साथ ली गई शानदार सेल्फी को सोशल मीडिया पर शेयर किया था।

समाचार क्रिकेट

फैन्स को लगे चूना इससे पहले ही सख्त हुुआ BCCI, ठगी करने वाले के खिलाफ उठाया कड़ा कदम

Amardeep Srivastava Updated: 13 March, 2019, 11:56 AM IST

HIGHLIGHT

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने धोखा-धड़ी से बचने के लिए फैन्स को एक चेतावनी जारी की है। दरअसल भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी वनडे सीरीज में एक व्यक्ति स्टेडियम में खुद को बीसीसीआई का प्रतिनिधि बताकर लोगों के सामने विज्ञापन का प्रस्ताव रख रहा है। इस मामले पर अब बीसीसीआई ने संज्ञान लेते हुए मीडिया में एक बयान जारी किया है।

बयान में बीसीसीआई ने कहा है, “बीसीसीआई ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक नोटिस जारी किया है जिसमें अपने आप को बोर्ड का प्रतिनिधि बता रहे एक शख्स के बारे में बताया गया है। ये बहरुपिया भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही सीरीज में स्टेडियम में विज्ञापन की जगह का प्रस्ताव रख रहा है। बोर्ड बताना चाहता है कि यह व्यक्ति ना ही बोर्ड का कर्मचारी है और ना ही वो किसी तरह से बोर्ड से संबंध रखता है। इस तरह की गतिविधियों में फंसने से बचें। आपको सलाह दी जाती है कि अगर आपके सामने ऐसा मामला आए तो आप पुलिस में शिकायत दर्ज कराएं।”

गौरतलब है कि इससे पहले आईसीसी ने भी इंग्लैंड में होने वाले आगामी विश्व कप को लेकर भी धोखा-धड़ी से बचने के लिए फैन्स को सावधान किया था।

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

www.facebook.com/crictodayhindi

समाचार क्रिकेट

विश्व कप से पहले ‘दादा’ को सताई टीम इंडिया की चिंता, बड़ी कमज़ोरी से कराया अवगत 

Shadab Ali Updated: 13 March, 2019, 11:42 AM IST

HIGHLIGHT

विश्व क्रिकेट का सबसे महाकुंभ आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप का काउंटडाउन शुरू हो चुका है और सभी टीमों ने इसके मद्देनजर अपनी-अपनी कमर कस ली है. टीम इंडिया भी विश्व कप की तैयारियां में कोई ढील नहीं बरतना चाहेगी, लेकिन अगर क्रिकेट के प्रचंड पंडितों की मानें तो भारतीय टीम अब भी एक बड़ी समस्या से जूझ रही है. ऐसे में पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का ताज़ा बयान सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि टीम इंडिया का नंबर चार का बल्लेबाजी क्रम अब भी बेहद कमज़ोर है, जो विश्व कप में टीम के लिए चिंता का विषय बन सकता है.

गांगुली के अनुसार टीम प्रबंधक को इस समस्या का जल्द से जल्द समाधान करना चाहिए.

‘दादा’ ने एक साक्षात्कार में कहा, “टीम इंडिया का चौथा बल्लेबाजी क्रम अब भी खाली है. इसके लिए विकल्प अब भी मौजूद हैं. देखते हैं क्या होता है.”

दरअसल, नंबर चार के बल्लेबाजी क्रम को लेकर टीम इंडिया में चल रहे प्रयोग समाप्त होने का नाम नहीं ले रहे हैं. हालांकि एक समय में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने खुद अंबाती रायुडू को नंबर चार पर स्थाई बल्लेबाज करार दिया था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा वनडे सीरीज में प्रदर्शन के बाद रायुडू पर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं. ऐसे में कुछ समीक्षक विजय शंकर को नंबर चार का विकल्प बता रहे हैं.

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

www.youtube.com/user/crictodaytv

समाचार क्रिकेट

"एमएस धोनी की पोजिशन पर अभी तक कोई भी खिलाड़ी कोई चुनौती पेश नहीं कर पाया है"

Shadab Ali Updated: 13 March, 2019, 10:46 AM IST

HIGHLIGHT

टीम इंडिया को आईसीसी का हर एक मुख्य खिताब दिलाने वाले पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने साल 2019 में एकदिवसीय क्रिकेट में अब तक 81.75 के औसत से रन बटोरे हैं. धोनी इस साल जनवरी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई तीन मैचों की वनडे सीरीज में मैन ऑफ द सीरीज भी बने. उन्होंने लगातार तीन अर्धशतक जड़ अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया. इतना ही नहीं भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उन्ही की सरज़मीं पर पहली बार द्विपक्षीय सीरीज में पराजित किया.

भारतीय टीम में एमएस धोनी के इस महत्वपूर्ण किरदार के मद्देनजर पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है. उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ एक साक्षात्कार में दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज की तारीफ करते हुए कहा, “वर्ल्ड कप मिशन में टीम को धोनी की जरूरत है. वह धोनी ही हैं, जिनकी देखरेख में कलाइयों के दो उम्दा स्पिनर्स (कुलदीप और चहल) टीम इंडिया में अपना जलवा दिखा रहे हैं. वर्ल्ड कप में भारत को धोनी के शांत स्वभाव की जरूरत है. उनकी विकेटकीपिंग की क्षमता पर किसी को कोई संदेह नहीं है.”

उन्होंने कहा, “धोनी आसानी से आउट होने वाले बल्लेबाज नहीं हैं. टीम को उनकी बल्लेबाजी का भी इस्तेमाल अच्छे से करना चाहिए. माही की पोजिशन पर अभी तक कोई भी खिलाड़ी कोई चुनौती पेश नहीं कर पाया है. ऐसे में वह टीम के लिए बेहद उपयोगी खिलाड़ी हैं.”

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

www.facebook.com/crictodayhindi

समाचार क्रिकेट

“टीम इंडिया का मौजूदा मध्यक्रम है कमज़ोर, विश्व कप से पहले करना होगा इस समस्या का समाधान”

Shadab Ali Updated: 12 March, 2019, 6:06 PM IST

HIGHLIGHT

  • पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने टीम इंडिया के मौजूदा मध्यक्रम को कमज़ोर आंका है
  • मांजरेकर के अनुसार ये ऐसी कमजोरी है, जिसे वो विश्व कप में लेकर जाएंगे
  • उन्होंने विश्व कप से पहले इस समस्या का समाधान करने की राय दी है

भारतीय टीम के मौजूदा मध्यक्रम बल्लेबाजी क्रम को लेकर पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने बड़ा बयान दिया है. मांजरेकर के अनुसार टीम इंडिया का मध्यक्रम काफी कमज़ोर है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा वनडे सीरीज के कई मैचों में भी ऐसा नज़ारा देखने को मिला है, जब शीर्ष क्रम के तीनों बल्लेबाजों के बड़ा स्कोर बना पाने पर भी टीम इंडिया एकदम मुश्किल में आई है.

इसके मद्देनजर मांजरेकर ने आगामी विश्व कप से पहले टीम इंडिया की इस समस्या को सामने रखा है.

मांजरेकर के अनुसार, “भारत विश्व कप की सर्वश्रेष्ठ टीम है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि उनकी जीत निश्चित है. वो अंदर से थोड़े कमजोर हैं.

उन्होंने कहा, “मौजूदा भारतीय मध्य क्रम गौतम गंभीर, युवराज सिंह और सुरेश रैना वाली टीम जितना मजबूत नहीं है. ये ऐसी कमजोरी है, जिसे वो विश्व कप में लेकर जाएंगे.”

बकौल मांजरेकर, “हालात के हिसाब से टीम के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव करना होगा. तब ही हम इस समस्या का समाधान कर सकते हैं.”

p>नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

www.youtube.com/user/crictodaytv

राय क्रिकेट

आखिर विश्व कप से ऐन पहले क्यों हार रही है टीम इंडिया?

Himanshu Updated: 12 March, 2019, 5:06 PM IST

HIGHLIGHT

विश्व की शुरुआत में अब कुछ ही महीनों का वक्त बचा है. ऐसे में इस वर्ल्ड कप में हिस्सा लेने वाली हर टीम कमर कस चुकी है और कोई भी कसर इस टूर्नामेंट के लिए छोड़ना नहीं चाहती है. विश्व कप 2019 के विजेता के लिए भारत प्रबल उम्मीदवारों में माना जा रहा है. विराट कोहली की कप्तानी में पहली बार टीम इंडिया विश्व कप के लिए उतरेगी. ऐसे में टीम में युवा जोश की भी भरमार है. हालांकि जैसे-जैसे विश्व कप नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे टीम इंडिया की हार का सिलसिला भी तेज होता जा रहा है. ऐसे वक्त में लग रहा है कि टीम इंडिया गलत वक्त पर हार रही है.

दरअसल, ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत के दौर पर आई हुई है. जहां कंगारूओं ने टीम इंडिया के साथ दो टी20 मैचों की सीरीज खेली. भारतीय क्रिकेट टीम को अपने घर में दोनों टी20 मैचों में हार का सामना करना पड़ा. इतना ही नहीं, 5 मैचों की वनडे सीरीज में शुरुआत दो मैचों तक तो लगा कि टीम इंडिया वनडे में अच्छा प्रदर्शन बरकरार रख सकती है, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे और चौथे वनडे मैच में टीम इंडिया ने ये उम्मीद भी तोड़ दी. भारतीय टीम को तीसरे और चौथे वनडे में हार का सामना करना पड़ा. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर टीम इंडिया विश्व कप से ऐन पहले क्यों हार रही है. जिसका जवाब कुछ इस तरह से हो सकता है.

ओवर कॉन्फिडेंस

कॉन्फिडेंस अच्छी बात है लेकिन ओवर कॉन्फिडेंस अक्सर घातक साबित हो जाता है. टीम इंडिया के साथ ही फिलहाल वही होता दिखाई दे रहा है. पिछले कुछ समय से टीम इंडिया विदेशी धरती पर भी अच्छा प्रदर्शन कर रही थी. हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के घर में घुसकर टीम इंडिया ने उसे धूल चटाई थी. ऐसे में हो सकता है टीम इंडिया इस बार भारतीय समजमीं पर ऑस्ट्रेलिया को हल्के में ले रही थी और ओवर कॉन्फिडेंस के कारण टीम इंडिया को घर में ही हार का सामना करना पड़ा.

विराट कोहली पर निर्भरता

पिछले काफी वक्त से ऐसा देखने में आया है कि टीम इंडिया विराट कोहली की बल्लेबाजी पर कुछ ज्यादा ही निर्भर हो गई है. ऐसे में किसी एक खिलाड़ी पर ही टीम को आगे बढ़ाने का दबाव हावी हो जाता है. जिसका खामियाजा पूरी टीम को भुगतना पड़ता है. विराट कोहली पर जितनी ज्यादा निर्भरता बढ़ेगी, टीम का प्रदर्शन उतना ही गिरने की आशंका रहेगी.

विश्व कप का दबाव

हो सकता है कि विश्व कप से पहले खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करने के लिए दबाव महसूस कर रहे हैं. विश्व कप टीम में खुद के नाम के चयन के लिए कई बार ऐसे हालातों में खिलाड़ी पैनिक हो जाते हैं और अच्छा प्रदर्शन करने की बजाय खराब प्रदर्शन कर देते हैं. जिसके लिए खिलाड़ियों को चाहिए कि वो विश्व कप से पहले तनाव मुक्त होकर एकदम कूल रहें और दबाव महसूस न करें.

समाचार क्रिकेट

“विजय शंकर टीम इंडिया के लिए एक सकारात्मक खिलाड़ी बनकर उभरे हैं”

Shadab Ali Updated: 12 March, 2019, 4:14 PM IST

HIGHLIGHT

टीम इंडिया के ऑलराउंडर विजय शंकर ने हाल ही में अपने शानदार खेल के बलबूते सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है. भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने इस 26 वर्षीय हरफनमौला खिलाड़ी की जमकर तारीफ की है.

भरत अरुण ने एक प्रेस वार्ता में कहा, “विजय ने आत्मविश्वास हासिल किया है, उन्हें अब तक जिस भी क्रम पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया है, उन्होंने वहां शानदार बल्लेबाजी की है. साथ ही शंकर की गेंदबाजी भी अच्छी हुई है. उन्होंने दोनों ही विभागों में आत्मविश्वास हासिल किया है.”

भरत के अनुसार, “शंकर गेंदबाजी में अब पहले से बेहतर नज़र आ रहे हैं. वह टीम इंडिया के लिए एक सकारात्मक खिलाड़ी बनकर उभरे हैं.”

गौरतलब है कि विजय शंकर ने अब तक 8 वनडे मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने लगभग 38 के औसत से 149 रन बनाए हैं. दूसरी तरफ उन्होंने गेंदबाजी करते हुए महज 2 विकेट हासिल किए हैं, हालांकि शंकर ने लगभग 6 के इकॉनमी रेट के साथ गेंदबाजी की है.

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

www.facebook.com/crictodayhindi